What will you learn today ?

Favteacher is a knowledge sharing website run by students and teachers of India like you. Join now and become the part of learning community. Share your knowledge to the world.

Members- 375

Solar system
Views 42

सोलर सिस्टम भूगोल नोट्स भाग 1

Profile photo of Ravi Kumar Ravi Kumar
April 16, 2018


हेलो दोस्तों कैसे हैं आपलोग , मुझे उम्मीद है अच्छे होंगे आपलोग। मैं आज फिर से नए पोस्ट के साथ हाजिर हूँ जो कि भूगोल विषय से संबंधित है। इतिहास की तरह यह विषय भी काफी महत्वपूर्ण है। इस विषय से संबंधित प्रश्नों को SSC , RAILWAY , JSSC एवं अन्य राज्यों के परीक्षाओं में देखने को मिलता है। मै आपलोग को भूगोल विषय की जानकारी को कई भागों में दूँगा। ताकि आपलोगों को पढ़ने में दिक्कत न हो और तथ्य को आसानी से याद रखा जा सके।

सोलर सिस्टम भूगोल नोट्स भाग 1

◆ हेकिटयस ने अपनी जसपीरियोडस अर्थात ‘ पृथ्वी का वर्णन ‘ में सर्वप्रथम भौगोलिक तत्वों का क्रमबद्ध समावेश किया।

◆ इरेटोस्थनीज ने भूगोल के लिए सर्वप्रथम ज्योग्रेफिका शब्द का प्रयोग किया।

◆ एनेक्सीमेंडर प्रथम व्यक्ति था जिसने विश्व का मानचित्र मापक पर बनाया।

◆ आकाशगंगा की सबसे नजदीकी मंदाकिनी को देवयानी ( Andromeda ) नाम दिया गया है।

सर्य ( Sun )

* सूर्य अपने अक्ष पर पूर्व से पश्चिम की ओर घूमता है।

* सूर्य एक गैसीय गोला है जिसमें हाइड्रोजन ( 71 % ) , हीलियम ( 26.5% ) एवं अन्य तत्व ( 2.5% ) होता है।

* सूर्य के केंद्र पर नाभिकीय संलयन होता है जो सूर्य की ऊर्जा का स्रोत है।

* सूर्य की दीप्तिमान सतह को प्रकाश मंडल कहते है।

* सूर्य ग्रहण के समय सूर्य के दिखाई देनेवाले भाग को सूर्य – किरीट ( Corona ) कहते है। सूर्य – किरीट X – ray उत्सर्जित करता है। इसे सूर्य का मुकुट कहा जाता है। पूर्ण सूर्य ग्रहण के समय सूर्य किरीट से प्रकाश की प्राप्ति  होती है।

* सूर्य की उम्र 5 बिलियन वर्ष है।

* सूर्य के प्रकाश को पृथ्वी तक पहुंचने में 8 मिनट 16.6 सेकंड का समय लगता है।

* सूर्य का व्यास 13 लाख 92 हजार किमी है जो पृथ्वी के व्यास का लगभग 110 गुना है।

* सूर्य हमारी पृथ्वी से 13 लाख गुना बड़ा है और पृथ्वी को सूर्यताप का 2 अरबवां भाग मिलता है।

* शुक्र एवं अरुण ( यूरेनस ) को छोड़कर अन्य सभी ग्रहों का घूर्णन एवं परिक्रमण की दिशा एक ही है।

बुध ( मरकरी )

* यह सूर्य का सबसे नजदीकी ग्रह है , जो सूर्य निकलने के दो घंटा पहले दिखाई पड़ता है।

* यह सबसे छोटा ग्रह है , जिसके पास कोई उपग्रह नहीं है।

* यह सूर्य की परिक्रमा सबसे कम समय मे पूरी करती है।

शुक्र ( Venus )

* यह पृथ्वी का निकटतम ग्रह है।

* यह चमकीला एवं सबसे गर्म ग्रह है।

* इसे साँझ का तारा या भोर का तारा कहा जाता है।

* अन्य ग्रहों के विपरीत दक्षिणावर्त ( anticlockwise ) चक्रण करता है।

* इसे पृथ्वी का भगिनी ग्रह कहते है।

* इसके पास कोई उपग्रह नहीं है।

वृहस्पति ( Jupiter )

* यह सौरमंडल का सबसे बड़ा ग्रह है। इसे अपनी धुरी पर चक्कर लगाने में 10 घन्टा ( सबसे कम ) और सूर्य की परिक्रमा करने में 12 वर्ष लगते है।

* इसके उपग्रहों की संख्या 63 है , जिसमें गेनीमेड सबसे बड़ा उपग्रह है।

* यह पीले रंग का उपग्रह है।

मंगल ( Mars )

* इसे लाल ग्रह ( Red planet ) कहा जाता है , इसका रंग लाल आयरन ऑक्साइड के कारण है।

* इसके दो उपग्रह है – फोबोस ( phobos ) और डीमोस ( Deimos )

शनि ( Saturn )

* यह आकार में दूसरा सबसे बड़ा ग्रह है।

* यह आकाश में पीले तारे के समान दिखाई पड़ता है।

* इसके उपग्रहों की संख्या 60 है , शनि का सबसे बड़ा उपग्रह टाइटन ( Titan ) है।

अरुण ( Uranus )

* यह आकार में तीसरा सबसे बड़ा ग्रह है।

* इसकी खोज 1781 ई.में विलियम हर्शेल द्वारा की गई है।

* यह अपने अक्ष पर पूर्व से पश्चिम की ओर घूमता है , जबकि अन्य ग्रह पश्चिम से पूर्व की ओर घूमते है।

* यहाँ सूर्योदय पश्चिम की ओर और सूर्यास्त पूरब की ओर होती है।

* इसे लेटा हुआ ग्रह कहते है।

* इसके 27 उपग्रह हैं जिसमें सबसे बड़ा उपग्रह टाइटेनिया ( Titania ) है।

वरुण ( Varun )

* इसकी खोज 1846 ई. में जर्मन खगोलज्ञ जहान गाले ने की है।

* यह हरे रंग का ग्रह है।

* इसके चारों ओर अतिशीतल मिथेन का बादल छाया हुआ है।

* इसके 13 उपग्रह है जिनमें ट्रिटोन ( Triton ) प्रमुख है।

पृथ्वी ( Earth )

* यह आकर में पांचवा सबसे बड़ा ग्रह है।

* इसका विषुवतीय व्यास 12,756 किमी और ध्रुवीय व्यास 12,714 किमी है।

* आकार एवं बनावट की दृष्टि से पृथ्वी शुक्र के समान है।

* जल की उपस्थिति के कारण इसे नीला ग्रह भी कहा जाता है।

* सूर्य के बाद पृथ्वी के सबसे निकट का तारा प्रॉक्सिमा सेंचुरी है , जो अल्फा सेंचुरी समूह का तारा है। यह पृथ्वी से 4.22 प्रकाश वर्ष दूर है।

* पृथ्वी का एक मात्र उपग्रह चंद्रमा है।

चंद्रमा ( Moon )

* चंद्रमा की सतह  और उसकी आंतरिक स्थिति का अध्ययन करने वाला विज्ञान सेलेनोलॉजी कहलाता है।

* चंद्रमा का उच्चतम पर्वत लिबनिट्ज़ पर्वत है , जो 35000 फुट ( 10,668 मी. ) ऊँचा है। यह चंद्रमा के दक्षिण ध्रुव पर स्थित है।

* चंद्रमा को जीवाश्म ग्रह भी कहा जाता है।

* चंद्रमा का व्यास 34,80 किमी तथा द्रव्यमान पृथ्वी के द्रव्यमान का लगभग 1/8 है।

* ज्वार उठने के लिए अपेक्षित सौर एवं चंद्रमा की शक्तियों का अनुपात 11:5 है।

★ बौने ग्रह : – 

यम ( Pluto ) 

* इसकी खोज 1930 ई.में क्लाड टामवो ने की थी।

* IAU ने इसका नया नाम 134340 रखा है।

सेरस ( Ceres )

* इसकी खोज इटली के खगोलशास्त्री पियाजी ने किया था।

* IAU के अनुसार इसको संख्या 1 से जाना जाता है।

* इसका व्यास बुध के व्यास का 1/5 भाग है।

* दो अक्षांशों के मध्य की दूरी 111 किमी होती है।

* 22 सितंबर एवं 21 मार्च को सम्पूर्ण पृथ्वी पर दिन एवं रात बराबर होते है। इसे क्रमशः शरद विषुव ( Autumnal Equinox ) एवं वसंत विषुव ( Vernal Equinox ) कहते है।

सूर्यग्रहण :- जब कभी दिन के समय सूर्य एवं पृथ्वी के बीच में चंद्रमा के आ जाने से सूर्य की चमकीली सतह चंद्रमा के कारण दिखाई नहीं पड़ने लगती है , इस स्थिति को सूर्यग्रहण कहते है।

चंद्रग्रहण : – जब सूर्य एवं चंद्रमा के बीच पृथ्वी आ जाती है तो सूर्य की पूरी रोशनी चंद्रमा पर नहीं पड़ती है , इसे चंद्रग्रहण कहते है।

मुझे उम्मीद है आपलोग जरूर इन तथ्यों को पढेंगे एवं अपने आनेवले परीक्षाओं को ओर भी शानदार बना सकेंगे। अधिक जानकारी के लिए आपलोग वेबसाइट को विजिट करे ,लॉगिन करे , ग्रुप जॉइन करें



Ravi Kumar

Profile Photo

I am a B.Ed. student at k.k.m college pakur. I am interested in teaching and sharing my knowledge. I love to teach math to students.

Connect With Me

Leave a Comment

Skip to toolbar